Bollywood script writing # 4 स्क्रीनप्ले राइटिंग

How to write a screenplay ? स्क्रिप्ट राइटिंग कैरियर टिप्स


स्क्रीनप्ले  कैसे लिखे  



स्क्रीनप्ले  या पटकथा लिखने के टूल 

स्क्रीनप्ले क्या होता है 
स्क्रीनप्ले कौन लिख सकता है 
स्क्रीनप्ले लिखने की शुरुआत कैसे की जाए   


स्क्रीनप्ले क्या होता है ? 
स्क्रिप्ट का बहुत अहम् भाग है पटकथा यानी स्क्रीनप्ले और इसको हर राइटर लिखने की कोशिश करना चाहता है और अगर राइटर स्क्रीनप्ले को देखना सीख ले तो ही उसको लिख सकेगा और अपने स्टोरी प्लाट को परदे पर जीवंत कर सकेगा। स्क्रीनप्ले को आप फिल्म का लिखा हुआ रूप मान सकते है। जिसे पढ़कर फिल्म देखने की फील आ जाती है यानि फिल्म का पेपर फॉर्मेट। जिसे पढ़कर समझा जा सकता है की राइटर लिखता है की क्या दिखाना है और डायरेक्टर डिसाइड करता है की लिखे हुए को कैसे दिखाना है।   


स्क्रीनप्ले कौन लिख सकता है ? 
स्क्रीनप्ले देखने की समझ हो तो कोई भी स्क्रीनप्ले लिख सकता है और आम आदमी फिल्म देखते समय स्क्रीनप्ले ही देख रहा होता है पर स्क्रीनप्ले की जानकारी के आभाव में उसको लगता है फिल्म देख रहा है क्योकि स्क्रीनप्ले देखते समय आपको फिल्म की स्क्रिप्ट, शूटिंग और एडिटिंग की टेक्निकल बेसिक जानकारी का होना बहुत जरुरी है वरना आप फिल्म देखने में खो जायेंगे और स्क्रीनप्ले से ध्यान हटने लगेगा।  इसके लिए जरुरी है की आप शुरुआत कुछ फिल्मो को देखते समय आवाज़ बंद करके फिल्मे देखने का अभ्यास करे फिर  धीरे धीरे आपका ध्यान स्क्रीनप्ले को समझने लगेगा और कुछ दिन के अभ्यास में आप हर फिल्म को स्क्रीनप्ले पढ़ने की तरह देखने  सक्षम होने लगेंगे।  ये बड़ा मजेदार लगने लगेगा आपको।       


स्क्रीनप्ले लिखने की शुरुआत कैसे की जाए ? 
जब आप आवाज़ बंद करके फिल्म देखे तो कुछ दिन के बाद उसको देख देखकर लिखने की कोशिश करे ज्यादा सोचे ना बस जो देखे उसको लिखने की कोशिश करे इसके लिए कुछ बातो का ध्यान रखे। 



हर सीन को उसकी लोकेशन से जाने  
लोकेशन चेंज होते ही सीन चेंज हो गया ऐसा मानकर उसको अगला सीन नंबर डालकर लिखे और इस बात को समझे की स्क्रिप्ट के अनुसार लोकेशन बदलते ही सीन बदल गया है। इसी बात को ध्यान देते हुए आपको अभ्यास करना है और बहुत जल्दी ही आपको समझ आने लगेगा की पूरी फिल्म में कितने सीन दिखाए गए है।  

हर सीन कई शॉट्स से मिलकर बना होता है  
अब जब आप फिल्म के सीन को देखकर जानना और लिखने  अभ्यास करेंगे तो आपको एक सीन के अंदर कितने शॉट दिखाए गए है ये समझना आपको आसान होगा। इसके लिए आपको समझना होगा की जैसे ही लोकेशन चेंज होने से सीन बदल जाता है ठीक उसी तरह जैसे ही फ्रेम चेंज होते ही शॉट चेंज हो जाता है। इसको समझने में शुरुआत में सकता कुछ समझ ही ना आये  घबराये नहीं और अभ्यास करे धीरे धीरे समझने लगेंगे। ज्यादा आसान नहीं है तो ज्यादा मुश्किल भी नहीं है और धीरे धीरे आपको स्क्रीनप्ले में  और शूटिंग में की गई सावधानियों और गलतियों को समझना आसान  जायेगा।  

स्क्रीनप्ले देखने से स्क्रीनप्ले कैसे लिखना सीखेंगे  
आप जानेंगे राइटर की मनोदशा और दर्शक की मनोदशा किसने बदल दी  
आप जान लेंगे की स्क्रिप्ट का पहला बलात्कार डायरेक्टर  सकता है 
आप जान सकेंगे क्यों ऑस्कर ने 55 % बॉडी लैंग्वेज को दिया है
 



ये वीडियो आपको स्क्रीनप्ले की बेहतरीन जानकारी देगा  

स्क्रीनप्ले लिखने की शुरुआत कैसे की जाए ?



अनुभव ही कीमती है  
स्क्रीनप्ले लिखने वाले राइटर बेहद कीमती है और उनकी जिम्मेदारी बहोत बढ़ जाती है जब उनके लिखे पर बड़े बड़े कलाकार अपनी मेहनत और भरोसा करते है