शिक्षा और आदर्श की बात (परिचय)

Difference Between Qualification and Education | शिक्षित  होने और योग्य होने में क्या फर्क है ?

शिक्षा और आदर्श की बात (परिचय)


आदर्श की बात और शिक्षा
Education and aadarsh ki baat 


मैंने अक्सर शिक्षित लोगो को कम शिक्षित लोगो के नीचे काम करते देखा है और ऐसा भी देखा है की अच्छे खासे पढ़े लिखे लड़के लड़किया और पुरुष व महिलाये अपने से कम योग्य लोगो से नीचे की पोस्ट पर काम करते पाए जाते है। इसके लिए शिक्षा और योग्यता के फर्क को समझना जरुरी है। 


शिक्षित  होने और योग्य होने में क्या फर्क है ? 

सफलता के लिए क्या महत्वपूर्ण है शिक्षा या योग्यता ?  

जो मेरा मानना है वो ही मै यंहा आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ। ऐसा सबका मानना हो ये जरुरी भी नहीं है। पर मेरा मानना है की सफलता पाने के लिए सफलता के नियम को समझने की आवश्यकता है। और शिक्षा क्या है ये भी जानने की समझ होना जरुरी है। 

  • शिक्षा और योग्यता में क्या फर्क है?  
  • सीखना किसे कहते है? आप जब कुछ सीखना चाहते है तो उसका क्या मतलब होता है।  
  • शिक्षा अब एक बिज़नेस है   

जिसे हम आम बोलचाल में सीखना कहते है उसका क्या मतलब है? जब हम कहते है की मुझे स्क्रिप्ट राइटिंग या इंग्लिश या कुछ और सीखना है तो ऐसा कहने से हमारा अभिप्राय क्या कहना है। अगर ये समझने की कोशिश की जाए तो हम सीखने और सफल होने के बीच में छिपे रहस्य को जान सकते है।   .

सीखने से हमारा अभिप्राय है की हम कुछ ऐसी बातो को याद करना चाहते है जिनको दुसरो ने जाना और दुनिया ने उन बातो को मान्यता दी और समाज में बेहतरी के लिए उसको अपनाया गया जैसे किसी ने भाषा बनाई किसी ने गिनती बनाई या कोई अविष्कार किया कोई खोज की और दुनिया को और बेहतर बनाने में अपना अपना योगदान दिया।    

किसी काम को नए तरीके से करने की कोशिश से पहले आपके दिमाग में उसका विचार आता है की ऐसा हो सकता है? या क्या ऐसा हो सकता है? तो उस विचार को भौतिक रूप देने के लिए आप प्रयास करते है और लगे रहते है उसको साकार करने के लिए फिर वो दिन आता है जब उस विचार को भौतिक रुप दे पाते है। 

दोस्तों आज हम जो भी चीजे भौतिक चीज़े इस्तेमाल में लाते है उन्हें किसी न किसी इंसान ने अपने विचार से भौतिक रुप दिया है. जैसे किसी ने सोचा की मै एक ऐसा यंत्र बनाऊगा जिसकी मदद से दूर रहकर भी किसी से बात की जा सकेगी और उसने ऐसा कर दिखाया जिसे हम टेलीफोन कहते है। 

पर महत्वपूर्ण बात ये है की उसने ऐसा सोचा और ऐसी कल्पना की ऐसा हो सकता है। ये विचार उसके दिमाग में आया और अब वो व्यक्ति अब इस दुनिया में नहीं रहा और उसके मरने के साथ ही उसका दिमाग भी नहीं रहा जिसमे ये विचार आया था पर वो विचार आज भी भौतिक र्रोप में दुनिया में जिन्दा है बस इसी को योग्यता कहते है।  

ऐसा जरुरी नहीं की आप ज्यादा शिक्षित नहीं है तो आप ज्यादा योग्य नहीं है या नहीं हो सकते है। 

योग्यता हमारे अंदर विचार को पैदा करने की उस शक्ति में छिपी है जिसका इस्तेमाल करना गिने चुने लोगो ने दुनिया में आकर जाना , ध्यान रहे उन्होंने जाना न की कंही से सीखा।  क्योकि इस शक्ति का बीज हम सबके अंदर है पर बहोत काम लोग है जो उस बीज से को अंकुरित कर पाने में सफल हो पाते है और फिर उसको सही खाद और अपनी योग्यता से उसके पौधे से फूल और फल पैदा करके दुनिया को अपना योगदान दे पाने का सौभाग्य ले पाते है। 

किसी भी स्किल को निखारा जा सकता है शिक्षा से और अनुभव से पर दुसरो की योग्यता को बेहतरी के लिए खुद को विचार की शक्ति से जोड़ने के लिए योग्य होना जरुरी है।  

Read more query: मैं एक अध्यापक हु और शिक्षा के विषयो से जुड़ा हूँ और ऑनलाइन बिज़नेस के माध्यम से एक्स्ट्रा इनकम चाहता हूँ इसके लिए मुझे क्या सीखना चाहिए ? 
जैसा की आपने कहा की आप शिक्षा के छेत्र से है और सिर्फ इनकम के लिए ऑनलाइन के माध्यम से कुछ करना चाहते है तो आप अपने सम्बंधित विषय को ऑनलाइन पढ़ा सकते है जिसको आजकल सभी पसंद करते है और इसके लिए आप अपना ब्लॉग या यूट्यूब चैनल बनाकर शुरुआत कर सकते है। ये बेहतर और सरल विकल्प है। 

 शिक्षा और आदर्श की बात (परिचय)